Best 50+ Judai Shayari in Hindi | Judai Shayari | जुदाई शायरी - Shayarihd

Read The Latest Dard e judai shayari in hindi, Judai shayari dosti, Judai shayari 2 line, Judai judai shayari, Lambi judai shayari, Judai shayari in english, Judai shayari rekhta, Judai shayari in urdu.


Dard e judai shayari in hindi, Judai shayari dosti

Judai Shayari in Hindi

 तुझे चाहा तो बहुत इजहार न कर सके, 

कट गई उम्र किसी से प्यार न कर सके, 

तूने माँगा भी तो अपनी जुदाई माँगी, 

और हम थे कि तुझे इंकार न कर सके।

Tujhe chaahaa to bahut ejhaar n kar sake, 

Kat gayi umr kisi se pyaar n kar sake, 

Tune maangaa bhi to apni judaai maangi, 

Aur ham the ki tujhe enkaar n kar sake।


Judai judai shayari

Judai Shayari in Hindi


मजबूरी में जब कोई किसी से जुदा होता है, 

ये तो ज़रूरी नहीं कि वो बेवफ़ा होता है, 

देकर वो आपकी आँखों में जुदाई के आँसू, 

तन्हाई में वो आपसे भी ज्यादा रोता है।

Majburi men jab koi kisi se judaa hotaa hai, 

Ye to jruri nahin ki vo bevaphaa hotaa hai, 

Dekar vo aapki aankhon men judaai ke aansu, 

Tanhaai men vo aapse bhi jyaadaa rotaa hai।


Judai Shayari in Hindi


हर एक बात पर वक़्त का तकाजा हुआ, 

हर एक याद पर दिल का दर्द ताजा हुआ, 

सुना करते थे ग़ज़लों में जुदाई की बातें, 

खुद पे बीती तो हकीकत का अंदाजा हुआ।

Har ek baat par vakt kaa takaajaa huaa, 

Har ek yaad par dil kaa dard taajaa huaa, 

Sunaa karte the gjlon men judaai ki baaten, 

Khud pe biti to hakikat kaa andaajaa huaa।


Judai Shayari in Hindi

दिल से हमें पुकारा ना करो, 

यूँ आँखों से इशारा ना करो, 

तुमसे दूर हैं मजबूरी है हमारी, 

तन्हाई में हमें यूँ तड़पाया ना करो।

Dil se hamen pukaaraa naa karo, 

Yun aankhon se eshaaraa naa karo, 

Tumse dur hain majburi hai hamaari, 

Tanhaai men hamen yun tdpaayaa naa karo।


Judai shayari 2 line

Judai Shayari in Hindi

यह हम ही जानते हैं जुदाई के मोड़ पर, 

इस दिल का जो भी हाल तुझे देख कर हुआ,

Yah ham hi jaante hain judaai ke mod par, 

Es dil kaa jo bhi haal tujhe dekh kar huaa,


जब तक मिले न थे जुदाई का था मलाल, 

अब ये मलाल है कि तमन्ना निकल गई।

Jab tak mile n the judaai kaa thaa malaal, 

Ab ye malaal hai ki tamannaa nikal gayi।


अब अगर मेल नहीं है तो जुदाई भी नहीं, 

बात तोड़ी भी नहीं तुमने तो बनाई भी नहीं।

ab agar mel nahin hai to judaai bhi nahin, 

baat todi bhi nahin tumne to banaai bhi nahin।

Judai Shayari in Hindi

हमें ये मोहब्बत किस मोड़ पे ले आई, 

दिल में दर्द है और ज़माने में रुसवाई, 

कटता है हर एक पल सौ बरस के बराबर, 

अब मार ही डालेगी मुझे तेरी जुदाई।

hamen ye mohabbat kis mod pe le aai, 

dil men dard hai aur jmaane men rusvaai, 

kattaa hai har ek pal sau baras ke baraabar, 

ab maar hi daalegi mujhe teri judaai।


Lambi judai shayari

इतना बेताब न हो मुझसे बिछड़ने के लिए, 

तुझे आँखों से नहीं मेरे दिल से जुदा होना है।

Etnaa betaab n ho mujhse bichhdne ke lia,

Tujhe aankhon se nahin mere dil se judaa honaa hai।


रब किसी को किसी पर फ़िदा न करे, 

करे तो क़यामत तक जुदा न करे, 

ये माना की कोई मरता नहीं जुदाई में, 

लेकिन जी भी तो नहीं पाता तन्हाई में।

rab kisi ko kisi par phidaa n kare, 

kare to kyaamat tak judaa n kare, 

ye maanaa ki koi martaa nahin judaai men, 

lekin ji bhi to nahin paataa tanhaai men।


बेवफा वक़्त था..? तुम थे..? 

या मुकद्दर था मेरा..? 

बात इतनी ही है कि अंजाम जुदाई निकला ।

bevphaa vakt thaa..? tum the..? 

yaa mukaddar thaa meraa..? 

baat etni hi hai ki anjaam judaai niklaa ।


हो जुदाई का सबब कुछ भी मगर, 

हम उसे अपनी खता कहते हैं, 

वो तो साँसों में बसी है मेरे, 

जाने क्यों लोग मुझसे जुदा कहते हैं।

ho judaai kaa sabab kuchh bhi magar, 

ham use apni khataa kahte hain, 

vo to saanson men basi hai mere, 

jaane kyon log mujhse judaa kahte hain।


याद में तेरी आँहें भरता है कोई, 

हर सांस के साथ तुझे याद करता है कोई, 

मौत तो सचाई है आनी ही है, 

लेकिन तेरी जुदाई में हर रोज़ मरता है कोई।

yaad men teri aanhen bhartaa hai koi, 

har saans ke saath tujhe yaad kartaa hai koi, 

maut to sachaai hai aani hi hai, 

lekin teri judaai men har roj martaa hai koi।


Judai Hindi Shayari - जुदाई हिंदी शायरी

किसी से जुदा होना इतना आसान होता तो, 

रूह को जिस्म से लेने फ़रिश्ते नहीं आते।

Kisi se judaa honaa etnaa aasaan hotaa to, 

Ruh ko jism se lene frishte nahin aate।


आओ किसी शब मुझे टूट के बिखरता देखो, 

मेरी रगों में ज़हर जुदाई का उतरता देखो, 

किस किस अदा से तुझे माँगा है खुदा से, 

आओ कभी मुझे सजदों में सिसकता देखो।

aao kisi shab mujhe tut ke bikhartaa dekho, 

meri ragon men jhar judaai kaa utartaa dekho, 

kis kis adaa se tujhe maangaa hai khudaa se, 

aao kabhi mujhe sajdon men sisaktaa dekho।


सोचा था कि मिटाकर सारी निशानी तेरी, 

चैन से सो जायेंगे । बंद आँखो ने अक्स देखा तेरा, 

तो बेचैन दिल ने पुकारा तुझको ।

sochaa thaa ki mitaakar saari nishaani teri, 

chain se so jaayenge । band aankho ne aks dekhaa teraa, 

to bechain dil ne pukaaraa tujhko ।


उस शख्स को बिछड़ने का सलीका नहीं आता, 

जाते जाते खुद को मेरे पास छोड़ गया...।

us shakhs ko bichhadne kaa salikaa nahin aataa, 

jaate jaate khud ko mere paas chhod gayaa...।

हर मुलाक़ात पर वक़्त का तकाज़ा हुआ, 

हर याद पर दिल का दर्द ताज़ा हुआ । 

सुनी थी सिर्फ लोगों से जुदाई की बातें,

खुद पर बीती तो हक़ीक़त का अंदाज़ा हुआ ।


har mulaakaat par vkt kaa takaajaa huaa, 

har yaad par dil kaa dard taajaa huaa । 

suni thi sirph logon se judaai ki baaten, 

khud par biti to hkikt kaa andaajaa huaa ।


ऐ चाँद चला जा क्यूँ आया है तू मेरी चौखट पर, 

छोड़ गया वो शख्स जिस के धोखे मे तुझे देखते थे ।

ai chaand chalaa jaa kyun aayaa hai tu meri chaukhat par, 

chhod gayaa vo shakhs jis ke dhokhe me tujhe dekhte the ।


Tag:  Judai Shayari in Hindi, Judai Shayari, जुदाई शायरी


Iklan Atas Artikel

Iklan Tengah Artikel 1

Iklan Tengah Artikel 2

Iklan Bawah Artikel